Free Content, SUCCESS/सफलता., UPSC IAS Prep, सरकारी जॉब.

IAS Pooja Khedkar : आखिर है कौन आईएएस पूजा खेडकर? करोड़पति पिता, सर्टिफिकेट पर उठे सवाल

IAS Pooja Khedkar : आखिर है कौन आईएएस पूजा खेडकर? करोड़पति पिता, सर्टिफिकेट पर उठे सवाल

महाराष्ट्र की  IAS अधिकारी Pooja Khedkar पर फर्जी प्रमाण पत्र का इस्तेमाल करने का आरोप: एक विस्तृत विश्लेषण :

पूजा खेडकर ने 2022 की यूपीएससी परीक्षा में 821वीं रैंक हासिल की है। उस साल आईएएस अधिकारी बनने के लिए ओबीसी श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए कटऑफ रैंक 434 थी। अपनी काफी कम रैंक के बावजूद, खेडकर आईएएस अधिकारी बनने में सफल रहीं।

परिचय

भारतीय प्रशासनिक सेवाओं में एक सनसनीखेज घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। महाराष्ट्र के एक IAS अधिकारी पूजा खेड़कर पर अपने प्रतिष्ठित पद को हासिल करने के लिए जाली दस्तावेजों का उपयोग करने का आरोप लगा है। इस घटना ने न केवल चयन प्रक्रिया की साख पर सवाल उठाए हैं, बल्कि ऐसी धांधलियों को रोकने में प्रणाली की कमजोरियों को भी उजागर किया है। यह लेख इस मामले के जटिल विवरण, इसके प्रभाव और भारत में सिविल सेवाओं पर इसके व्यापक प्रभावों पर गहराई से नज़र डालता है।

मामले की पृष्ठभूमि : Pooja Khedkar

ट्रेनिंग पर आईएएस अधिकारी पूजा खेड़कर (Pooja Khedkar) को शक्ति के कथित दुरुपयोग के लिए स्थानांतरित किया गया है। उन्होंने यूपीएससी रियायतों के लिए दृश्य, मानसिक विकलांगताओं का दावा किया था। उन्होंने विकलांगताओं की पुष्टि के लिए कई मेडिकल परीक्षाएं छोड़ दीं।

प्रोबेशनरी आईएएस अधिकारी पूजा खेड़कर को पुणे से शक्ति के कथित दुरुपयोग के कारण स्थानांतरित कर दिया गया है। इस विवाद से उनके सिविल सेवा परीक्षा के प्रयासों का खुलासा हुआ, जिसमें उन्होंने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) को प्रस्तुत शपथ पत्र में दृष्टिहीन और मानसिक रूप से बीमार होने का दावा किया था।

खेड़कर द्वारा बताई गई विकलांगताओं का उपयोग यूपीएससी चयन के दौरान विशेष रियायतें प्राप्त करने के लिए किया गया था। परीक्षा में कम अंक प्राप्त करने के बावजूद, इन रियायतों के कारण वह परीक्षा पास कर सकीं और 821वीं अखिल भारतीय रैंक (AIR) प्राप्त की।

यूपीएससी ने चयन के बाद उनकी विकलांगताओं की पुष्टि के लिए चिकित्सा परीक्षणों की मांग की। हालांकि, खेड़कर ने छह अलग-अलग अवसरों पर इन परीक्षाओं में भाग लेने से इनकार कर दिया।

दिल्ली के एम्स में 22 अप्रैल, 2022 को उनकी पहली निर्धारित चिकित्सा परीक्षा थी, जिसे उन्होंने कोविड पॉजिटिव होने का दावा करते हुए छोड़ दिया। एम्स और सफदरजंग अस्पताल में 26 और 27 मई को अगली नियुक्तियों को भी छोड़ दिया। उन्होंने 1 जुलाई को एक और अपॉइंटमेंट छोड़ दिया। हालांकि उन्होंने 26 अगस्त, 2022 को चिकित्सा परीक्षण के लिए सहमति व्यक्त की, लेकिन 2 सितंबर को दृष्टिहीनता का आकलन करने के लिए महत्वपूर्ण एमआरआई परीक्षण के लिए उपस्थित नहीं हुईं।

इन परीक्षाओं में भाग लेने के बजाय, खेड़कर ने एक बाहरी केंद्र से एक एमआरआई रिपोर्ट प्रस्तुत की, जिसे यूपीएससी ने खारिज कर दिया। यूपीएससी ने फिर उनकी चयन को केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण (CAT) में चुनौती दी, जिसने 23 फरवरी, 2023 को उनके खिलाफ फैसला सुनाया।

इसके बावजूद, उनकी एमआरआई प्रमाण पत्र को बाद में स्वीकार कर लिया गया और उनकी आईएएस नियुक्ति की पुष्टि की गई। Pooja Khedkar

विकलांगता दावों के अलावा, खेड़कर के ओबीसी गैर-क्रीमी लेयर की स्थिति के दावों में भी विसंगतियाँ पाई गईं।

आरटीआई कार्यकर्ता विजय कुंभार ने कहा कि पूजा खेड़कर के पिता दिलीप खेड़कर के चुनाव शपथ पत्र में उनकी संपत्ति का मूल्य 40 करोड़ रुपये दिखाया गया है। उनके पिता की संपत्ति को देखते हुए, खेड़कर की ओबीसी गैर-क्रीमी लेयर की पात्रता पर सवाल उठ रहा है। दिलीप खेड़कर ने वंचित बहुजन आघाड़ी के टिकट पर 2024 लोकसभा चुनाव लड़ा था।

“इतनी आय गैर-क्रीमी लेयर में कैसे आ सकती है? उसने खुद को मानसिक रूप से बीमार और कई विकलांगताओं वाले व्यक्ति के रूप में स्वीकार किया है। फिर भी उसने कई बार चिकित्सा परीक्षाओं को छोड़ दिया। वह आईएएस के लिए कैसे अर्हता प्राप्त कर सकी? ये बड़े सवाल हैं,” कार्यकर्ता ने कहा।

ये विवरण तब सामने आए जब महाराष्ट्र सरकार ने शक्ति के दुरुपयोग की शिकायतों के कारण पुणे से खेड़कर का वाशिम में स्थानांतरण किया। यह कदम पुणे कलेक्टर डॉ. सुहास दिवसे द्वारा मुख्य सचिव को लिखे गए पत्र के बाद उठाया गया। अब खेड़कर वाशिम में अतिरिक्त सहायक कलेक्टर के रूप में कार्य करेंगी।

पुणे में अपने प्रोबेशन के दौरान, खेड़कर ने कई विशेषाधिकारों की मांग की जो प्रोबेशनरी अधिकारियों को अनुमति नहीं दी जाती है। उन्होंने अपनी निजी ऑडी कार का उपयोग किया जिसमें लाल-नीली बत्ती और वीआईपी नंबर प्लेट थी, अपनी वाहन पर ‘महाराष्ट्र सरकार’ का बोर्ड लगाया, और एक आधिकारिक कार, आवास, कार्यालय कक्ष, और अतिरिक्त स्टाफ की मांग की।

IAS Pooja Khedkar : आखिर है कौन आईएएस पूजा खेडकर? करोड़पति  पिता, सर्टिफिकेट पर उठे सवाल

IAS Pooja Khedkar : आखिर है कौन आईएएस पूजा खेडकर? करोड़पति पिता, सर्टिफिकेट पर उठे सवाल

विवाद के प्रभाव

इस विवाद के परिणाम दूरगामी हैं, जो प्रशासनिक ढांचे के भीतर और बाहर विभिन्न हितधारकों को प्रभावित करते हैं।

सार्वजनिक विश्वास का ह्रास

ऐसी खुलासों के सबसे तत्काल परिणामों में से एक है सिविल सेवाओं में सार्वजनिक विश्वास का ह्रास। IAS को अक्सर मेरिट और ईमानदारी के गढ़ के रूप में देखा जाता है। धांधली की घटनाएं इस धारणा को कमजोर करती हैं, जिससे जनता में निराशा और अविश्वास पैदा होता है।

चयन प्रक्रियाओं पर प्रभाव

घटना ने IAS की चयन प्रक्रियाओं में संभावित खामियों को भी उजागर किया है। सख्त जांच और संतुलन के बावजूद, तथ्य यह है कि दस्तावेज इतने लंबे समय तक अनदेखे रहे, अधिक मजबूत सत्यापन तंत्र की आवश्यकता का सुझाव देता है। यह भविष्य की घटनाओं को रोकने के लिए वर्तमान प्रक्रियाओं की व्यापक समीक्षा और ओवरहाल की ओर ले जा सकता है।

कानूनी और अनुशासनात्मक कार्यवाही

आरोपी अधिकारी अब कानूनी और अनुशासनात्मक कार्यवाही का सामना कर रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप सेवा से बर्खास्तगी, आपराधिक आरोप और सेवा के दौरान अर्जित लाभों की जब्ती जैसी सख्त सज़ा हो सकती है। ये कार्यवाही उन लोगों के लिए एक निवारक के रूप में कार्य करती हैं जो समान धोखाधड़ी गतिविधियों का विचार कर सकते हैं।

व्यापक प्रभाव

महाराष्ट्र IAS अधिकारी से जुड़े इस विवाद का कोई एकाकी घटना नहीं है बल्कि यह गहरे प्रणालीगत मुद्दों का लक्षण है जिन्हें संबोधित करने की आवश्यकता है।

प्रणालीगत कमजोरियां

जिस आसानी से अधिकारी ने कथित रूप से जाली प्रमाण पत्र प्राप्त किए और उपयोग किए, वह प्रणालीगत कमजोरियों की ओर इशारा करता है जिनका दुरुपयोग किया जा सकता है। पारदर्शिता, जवाबदेही और चयन प्रक्रिया की अखंडता को बढ़ाने वाली सुधारों की तत्काल आवश्यकता है।Pooja Khedkar

सुधार की मांग

इस घटना ने IAS चयन और सत्यापन प्रक्रियाओं में व्यापक सुधार की मांग को प्रेरित किया है। सिफारिशों में शामिल हैं:

  • उन्नत सत्यापन तंत्र: प्रलेखित दस्तावेजों की प्रामाणिकता सुनिश्चित करने के लिए उन्नत तकनीकों और क्रॉस-रेफरेंसिंग डेटाबेस का कार्यान्वयन।
  • नियमित ऑडिट: किसी भी विसंगति का जल्द से जल्द पता लगाने के लिए सेवा में अधिकारियों के शैक्षिक और पेशेवर रिकॉर्ड का नियमित ऑडिट।
  • पारदर्शी चयन प्रक्रियाएं: चयन प्रक्रिया में अधिक पारदर्शिता, जिसमें चयन से संबंधित प्रासंगिक जानकारी को सार्वजनिक रूप से सुलभ बनाना शामिल है।

नैतिक प्रशिक्षण और जागरूकता

प्रक्रियात्मक सुधारों के अलावा, महत्वाकांक्षी सिविल सेवकों के लिए नैतिक प्रशिक्षण और जागरूकता कार्यक्रमों की आवश्यकता है। ये कार्यक्रम सार्वजनिक सेवा में ईमानदारी,

[Anupma Chandra] UPSC Mentor and Expert

Check out why I cracked UPSC Civil Services and My brothers did IIT IIM, the family secret
https://www.instagram.com/reel/Cw_CumFStDn/?igshid=ODk2MDJkZDc2Zg==

Full form of IAS

Diwali Messages for UPSC IAS Aspirants

Timetable for Housewife Candidates 

 

मेरे YouTube channel के trending videos देखिए


Five movies that you should watch if you are an IAS/IPS/IFS aspirant

6 Hollywood movies that every IAS aspirant must watch.

Related Posts